घोर विपत्ति दूर करते हैं माँ दुर्गा के ये 32 नाम

दानव महिषासुर के वध से प्रसन्न और निर्भय हो गए देवताओं सहित त्रिदेवों ने प्रसन्न भगवती से ऐसे किसी उपाय की याचना की, जो सरल हो और कठिन से कठिन विपत्ति से छुड़ाने वाला हो। 

उन्होंने कहा कि ‘हे देवी! यदि वह उपाय गोपनीय हो तब भी कृपा कर हमें कहें। तब उनलोगों के  अनुरोध पर मां भवानी ने अपने ही बत्तीस नामों की माला के एक अद्भुत गोपनीय रहस्यमय और चमत्कारी जप का उपदेश दिया जिसके करने से घोर से घोर विपत्ति, राज्यभय आदि से ग्रस्त मनुष्य भी भयमुक्त एवं सुखी हो जाता है।

देहशुद्धि के बाद कुश या कम्बल के आसन पर बैठकर पूर्व या उत्तर की तरफ मुंह करके घी के दीपक के सामने इन नामों की 5/ 11/ 21 माला कम से कम दुर्गा पूजा के दौरान नौ दिन करनी है और जगत माता से अपनी मनोकामना पूर्ण करने की याचना करनी है।

 माँ दुर्गा के प्रमुख 32 नाम जो ब्रह्मा जी द्वारा प्रतिपादित हैं –

दुर्गा,

दुर्गतिशमनी,

दुर्गापद्विनिवारिणी,

दुर्गमच्छेदनी,

दुर्गसाधिनी,

दुर्गनाशिनी,

दुर्गतोद्धारिणी,

दुर्गनिहन्त्री,

दुर्गमापहा,

दुर्गमज्ञानदा,

दुर्गदैत्यलोकदवानला,

दुर्गमा,

दुर्गमालोका,

दुर्गमात्मस्वरुपिणी,

दुर्गमार्गप्रदा,

दुर्गम विद्या,

दुर्गमाश्रिता,

दुर्गमज्ञान संस्थाना,

दुर्गम ध्यान भासिनी,

दुर्गमोहा,

दुर्गमगा,

दुर्गमार्थस्वरुपिणी,

दुर्गमासुर संहंत्रि,

दुर्गमायुध धारिणी,

दुर्गमांगी,

दुर्गमता,

दुर्गम्या,

दुर्गमेश्वरी,

दुर्गभीमा,

दुर्गभामा,

दुर्गभा,

दुर्गोद्धारिणी।

हे देवी आपको नमस्कार हैं …

32 Name of Maa Durga

घोर विपत्ति दूर करते हैं माँ दुर्गा के ये 32 नाम

दानव महिषासुर के वध से प्रसन्न और निर्भय हो गए देवताओं सहित त्रिदेवों ने प्रसन्न भगवती से ऐसे किसी उपाय की याचना की, जो सरल हो और कठिन से कठिन विपत्ति से छुड़ाने वाला हो। 

उन्होंने कहा कि ‘हे देवी! यदि वह उपाय गोपनीय हो तब भी कृपा कर हमें कहें। तब उनलोगों के  अनुरोध पर मां भवानी ने अपने ही बत्तीस नामों की माला के एक अद्भुत गोपनीय रहस्यमय और चमत्कारी जप का उपदेश दिया जिसके करने से घोर से घोर विपत्ति, राज्यभय आदि से ग्रस्त मनुष्य भी भयमुक्त एवं सुखी हो जाता है।

देहशुद्धि के बाद कुश या कम्बल के आसन पर बैठकर पूर्व या उत्तर की तरफ मुंह करके घी के दीपक के सामने इन नामों की 5/ 11/ 21 माला कम से कम दुर्गा पूजा के दौरान नौ दिन करनी है और जगत माता से अपनी मनोकामना पूर्ण करने की याचना करनी है।

 माँ दुर्गा के प्रमुख 32 नाम जो ब्रह्मा जी द्वारा प्रतिपादित हैं –

दुर्गा,

दुर्गतिशमनी,

दुर्गापद्विनिवारिणी,

दुर्गमच्छेदनी,

दुर्गसाधिनी,

दुर्गनाशिनी,

दुर्गतोद्धारिणी,

दुर्गनिहन्त्री,

दुर्गमापहा,

दुर्गमज्ञानदा,

दुर्गदैत्यलोकदवानला,

दुर्गमा,

दुर्गमालोका,

दुर्गमात्मस्वरुपिणी,

दुर्गमार्गप्रदा,

दुर्गम विद्या,

दुर्गमाश्रिता,

दुर्गमज्ञान संस्थाना,

दुर्गम ध्यान भासिनी,

दुर्गमोहा,

दुर्गमगा,

दुर्गमार्थस्वरुपिणी,

दुर्गमासुर संहंत्रि,

दुर्गमायुध धारिणी,

दुर्गमांगी,

दुर्गमता,

दुर्गम्या,

दुर्गमेश्वरी,

दुर्गभीमा,

दुर्गभामा,

दुर्गभा,

दुर्गोद्धारिणी।

हे देवी आपको नमस्कार हैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *